रविवार, जुलाई 31, 2005

रबेका के लिये

रबेका: अच्छा पीटर, मैं तुमहारे साथ कराची जा रही हूँ। मुझे पाकिसतान क्रिकट टीम के साथ नौकरी मिल गयी। जब तक तुम उन के साथ खेलोगे मैं कोच हूँगा।
पीटर: देखो, रेबेका, अगर तुम कोच हो, तुम को सब खिलाड़ियों को जानना चाहिये होगा न?
रबेका: हाँ, मैं पिछले हफ़ते उन से मिली।
पीटर: मगर मुझे नहीं मालूम है कि टीम में कौन कौन खेल रहे हैं। ज़रा उन के नाम मुझे बताओ?
रबेका: ठीक है, मैं बताऊं लेकिन लगता है कि आजकल वे क्रिकटरस के बहुत अजीब-से नाम होते हैं।
पीटर: तुमहारा मतलब मज़ेदार नाम होते हैं?
रबेका: नहीं, अजीब से नाम। तुम "पागल खाँ" को जानते हो?
पीटर: हाँ, और उस का भाई, दीवाना।
रबेका: हाँ, दीवाना खाँ।
पीटर: और उन के ज़ूलू चचेरा भाई।
रबेका: ज़ूलू?
पीटर: शाका
रबेका: शाका खां। खैर, तुमहारे सवाल का जवाब देने के लिये, हमारा सब से अच्छा गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: हाँ, ज़रा मुझे बताओ।
रबेका: मैं ने कहा कि हमारा सब से अच्छा गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: तुम तो मनेजर हो न?
रबेका: हाँ, बिलकुल।
पीटर: लेकिन तुमहें अपने गेंद बाज़ का नाम नहीं याद है?
रबेका: नहीं, मुझे याद आया।
पीटर: ठीक है, फिर तुमहारा सब से महटव्पुर्ण गेंद बाज़ कौन है?
रबेका: हाँ।
पीटर: मुझे उस का नाम चाहिये।
रबेका: कौन।
पीटर: तुमहारा गेंद बाज़।
रबेका: कौन।
पीटर: तुमहारा गेंद पेंकते हुए खिलाड़ी।
रबेका: कौन।
पीटर: वह आदमी जो पिट्च पर...
रबेका: हमारा गेंद बाज़ कौन है!
पीटर: मैं इसी बात के बारे में तुम से पूछ रहा हूँ। गेंद बाज़ कौन है?
रबेका: हाँ, सच बताया। यह तो उस का नाम है।
पीटर: किस का नाम?
रबेका: नहीं, कौन का नाम।
पीटर: अरे रबेका बेवक़ूफ़ अभी तुम अपनी हिन्दी भूल गयी। Post-positions के साथ oblique case इस्तेमाल करने की ज़रूरत है।
रबेका: हाँ जानती हूँ लेकिन हम कौन के बार में बात कर रहे हैं
पीटर: किस के बारे में!
रबेका: कौन।
पीटर: किस!
रबेका: कौन!

PAUSE

पीटर: देखो, तुमहारे एक अच्छा गेंद बाज़ है न?
रबेका: बेशक।
पीटर: कौन है?
रबेका: सच।
पीटर: जब तुम महीने के अंत में पैसे देती हो, तब किस को यह पैसे मिल जाता है?
रबेका: नहीं, किस नहीं। कौन।
पीटर: मैं सिर्फ़ गेंद बाज़ का नाम जानना चाहता हुँ, बस।
रबेका: कौन।
पीटर: पैसे मिलते हुए आदमी।
रबेका: बस, तुमने कहा।
पीटर: कौन पैसे मिल जाता है?
रबेका: हाँ वह हर रुप्या मिलता है। कभी कभी उस के बदले में उस की बीवी स्टेडियम पैसे लेने आती है।
पीटर: किस की बीवी?
रबेका: कौन की बीवी।
पीटर: अरे यार, किस की बीवी!
रबेका: कौन की बीवी।

PAUSE

रबेका: मुझसे कोई ग़लती हो गयी क्या?
पीटर: देखो। जब उस ने contract signed किया, कैसे अपना नाम लिखा?
रबेका: कौन।
पीटर: गेंद बाज़!
रबेका: कौन।
पीटर: कैसे अपना नाम...
रबेका: इसी तरह से लिखता है।
पीटर: कौन?
रबेका: हाँ

PAUSE

पीटर: देखो। तुम्हारे सब से अच्छा गेंद बाज़ का नाम क्या है?
रबेका: नहीं। हमारा बाट्टर क्या है।
पीटर: हम बले बाज़ के बार में नहीं बात कर रहे थें।
रबेका: गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: रुको! गेंद बाज़ के बारे में बात करते करते बले बाज़ के बारे में मत बात करो!
रबेका: फिर विषय मत बदलो।
पीटर: मैं ने कुछ नहीं बदला!
रबेका: यार आराम करो।
पीटर: मैं तुमहें पुछ रहा हूँ, गेंद बाज़ कौन है?
रबेका: ठीक से समझा।
पीटर: ठीक है।
रबेका: ठीक है।

PAUSE

पीटर: गेंद बाज़ का नाम क्या है?
रबेका: नहीं। बले बाज़ क्या है।
पीटर: मैं नहीं जानना चाहता हूँ बले बाज़ कौन है।
रबेका: गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: पता नहीं।
रबेका: वह Equipment manager है, हम उस के बारे में नहीं बात कर रहे हैं।
पीटर: तुम हमारी बातचीत में Equipment manager किसलिये लायी?
रबेका: क्योंकि तुमने उस का नाम कहा
पीटर: ऊफ़। अगर मैं ने उस का नाम कहा, तो वह आदमी कौन है?
रबेका: नहीं, गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: गेंद बाज़ का नाम क्या है?
रबेका: नहीं, बले बाज़ का नाम क्या है।
पीटर: पता नहीं।
रबेका: Equipment manager है।
पीटर: फ़िर से हम Equipment manager की बात करने लगे!

PAUSE

यार, ठीक है। हम Equipment manager के बारे में बात करें?
रबेका: ठीक है। तुम क्या जानना चाहते हो?
पीटर: Equipment manager कौन है?
रबेका: क्यों तुम सोचते हो कि हमारा Equipment manager कौन है?
पीटर: Equipment manager का नाम क्या है?
रबेका: बिलकुल नहीं। बले बाज़ क्या है?
पीटर: तुमने मुझे कभी नहीं बताया बले बाज़ कौन है।
रबेका: हाँ, ज़रुर क्योंकि गेंद बाज़ कौन है।
पीटर: पता नहीं।
रबेका & पीटर Equipment manager!

PAUSE

पीटर: रबेका, मैं बारह बजे जाऊंगा। मफ़ करना, लेकिन मुझे टीम को छोरना है। शायिद मैं भारत के लिये खेल सकता हूँ।
रबेका: ठीक है यार - और सुनो, कहा जाता है कि भारत का सब से अच्छा गेंद बाज़ वह है।
पीटर: (looks around) कौन?
रबेका: नहीं यार, कौन हमारा गेंद बाज़ है!
पीटर: runs away

शनिवार, जुलाई 30, 2005

माइक और रिचर्ड के लिए--मेरी स्किट

शार्लीन मंडल
मौखिक परीक्षा की स्किट

माइक played by माइक
राम played by रिचर्ड
आशा played by शार्लीन

सीन नंबर एक

स्कूल यार्ड में

आशा: हे, माइक!

माइक: आशा! मैं सोच रहा था कि तुम आज स्कूल नहीं आओगी। पर तुम्हारा भाई कहाँ है?

आशा: राम अभी आया। हम आजकल कैरम के साथ बहुत व्यस्त होते हैं। इस वजह से हम देर से आये। भारत से आने के बाद हमें थोड़ा सा बुरा लग रहा है क्योंकि इस देश में हमारे ख़स दास्त नहीं हैं जैसे भारत में थे। लेकिन कैरम से हमारी जान बच गई। उससे बहुत समय मज़े में बिता सकी।

माइक: कैरन? हमारे स्कूल की कैरन?

आशा: नहीं, नहीं। हमारे स्कूल में तुम कैरम नहीं मिल सकते हो। वह हमारे घर में है।

माइक: क्या बात है! सिर्फ़ तुम्हारे घर में?

आशा: हाँ! ओ, उधर देखो, मेरा भाई आ रहा है। लेकिन वह हाथ ऐसा करते हुए क्यों चलता है?

राम: नमस्ते, माइक। नमस्ते आशा।

माइक: नमस्ते राम। तुमहारे हाथ में कोई दर्द है क्या?

राम: हाँ, बहुत आफ़सोस की बात है। कैरम के टुकड़े मारते मारते ऐसा हो गया। मेरी उँगलियों में बहुत दर्द है।

माइक: क्या?! तुमने कैरन के टुकड़े मारे?

राम: हाँ, बेशक। (घंटी बजती है) ओ, घंटी बजती है। मुझे जल्दी से क्लास जाना है। फिर मिलेंगे!

माइक: (सोचने लगता है, और भोड़ी देर बाद) आशा, क्या मैं कैरन को देख सकता हूँ?

आशा: हाँ, बेशक। क्या तुम डिनर के लिए मेरे घर आ सकते हो, आज रात को?

माइक: हाँ, मैं ज़रुर आऊँगा।

आशा: हाँ, ठीक छह बजे आओ। हमें कैरम मारने से बहुत मज़ा आएगा! अभी मुझे क्लास जाना पड़ेगा—शाम को मिलेंगे। (हाथ उठाकर, उँगलियाँ दिखाकर) और कैरम खेलने के लिए तैयार हो! (आशा चला जाती है)

माइक: (सोच रहा है, और खुद से कहने लगता है) अरे! आशा एक बहुत अच्छी लड़की है, और उसके परिवार वाले भी बहुत अच्छे हैं। लेकिन उसके घर में एक लड़की है, कैरन, और इस लड़की को आशा और राम दोनों मारते हैं। क्या उनकी माँ कुछ नहीं कहती है? क्या भारत में ऐसा होता है? उनको लज्जा नहीं आती, कि उन्होंने मुझे ऐमा चीज़ बतायी? मैं ज़रूर शाम को देखूँगा, बेचारी कैरन को मैं किस तरह से बचा सकता हूँ।


सीन नंबर दो

आशा और राम के घर में

राम: मेरे खयाल में शायद माइक को हमारा भारतीय खाना अच्छा नहीं लगेगा।

आशा: हाँ, मैं भी यही बात सोच रही थी। लेकिन हमारी माँ कमाल का खाना बनाती है, और असल में माइक कैरम खेलने आएगा।

राम: सच? क्या वह कैरम जानता है? यह तो अमेरिकन खेल नहीं है।

आशा: ज़रूर जानता है। लेकिन मुझे लगता है कि शायद उस ने कैरम कभी नहीं खेला।

राम: ओ, तो हमें बहुत मज़ा आएगा!

(डोरबेल की आवाज़ सुनी जाती है। राम दरवाज़ा खोलकर माइक को अंदर लाता है।)

आशा: नमस्ते, माइक। क्या हालचाल है?

माइक: सब ठीक है। पर कैरन यहाँ है?

आशा: हाँ, बेशक। और नहीं तो क्या? कैरम बाद में आएगी—वह हमारे घर में है, लेकिन पहले हमें कुछ खाना चाहिए।

माइक: क्या? आप लोग कैरन के बिना खाते हैं?

आशा: ऊफ़, कैरम के बारे में तुम इतनी चिंता क्यों कर रहे हो? आओ, हम खाना खाएँ।

(आशा, माइक, और राम मेज़ पर बैठते हैं। आशा एक प्याला उटाकर माइक से पूछती है)

आशा: माइक, यह हमारा मनपसंद व्यंजन है—लेडीज़ फ़िंगर। आपको कुछ लेडीज़ फ़िंगर खाना चाहिए। बहुत स्वादिष्ट होता है।

माइक: क्या? तुम लोग सिर्फ़ कैरन को मारने से खुश नहीं हो—तुम औरत की उँगलियाँ भी खाते हो! तुम लोग कितने बुरे हो! सिर्फ़....(प्याले में देखकर)...ओ। (थोड़ी सी हँसने लगता है) मैं मज़ाक कर रहा हूँ। मैं देख सकता हूँ कि तुम्हें ओक्रा पसंद है।

आशा: (राम के कान में फुसफुसाकर कहती है) अरे भाई, माइक का मज़ाक करने का ढंग बहुत अजीब है।

राम: हाँ, क्या बात है—अक्सर वह ऐसा नहीं होता है।

(खाना खत्म करते हैं)

आशा: ठीक है, अभी हम खेल शुरू करेंगे! माइक, क्या तुम कैरम के लिए तैयार हो?

राम: हाँ, हम बहुत ज़ोर से कैरम के टुकड़े मारेंगे। आओ, माइक। कैरम इस कमरे में है।

माइक: Oh God, oh God…

आशा: तुम क्या कह रहे हो?

माइक: कुछ नहीं। सिर्फ़ मुझे कैरन की तरह मत मरो। मैं जान बूझकर आया, कि तुम लोगों के साथ एक लड़की कैरन है, जिसको तुम बहुत ज़ोर से मारते रहते हैं। मैं ने सोचा कि मैं उसको बचाने कि कोशिश करूँगा, लेकिन तुम दो हैं, और मैं सिर्फ़ एक।

आशा: (हँसते हँसते) अरे यार, तुम हमें किस तरह का इंसान समझ रहे हो? कैरन नहीं, कै...रा...म। यह एक खेल है, और भारत में यह एक बहुत ही लोकप्रिय खेल है।

माइक: ओ....ओ! मैं क्या कह रहा था? माफ़ करो। एक बहुत बड़ी ग़लतफहमी हो गयी।

आशा: (हँसते हँसते) कोई बात नहीं। यह तो बहुत मज़ेदार बात है। हम तो इस तरह की चीज़ कभी नहीं कर सकते हैं कि हम एक लड़की को ज़ोर से मारें। लेकिन यह बहुत अच्छी horror story हो सकती है। बुक डील के समय मैं तुम्हें बताऊगी।

(सब हँसते)

माइक: कोई बात नहीं। हम कैरम खेलेंगे! और अगले हफ़्ते तुम लोग मेरे घर आओ, और फिर हम लै़डीज़ फ़िंगर नहीं खाएँगे—हम chicken finger खाएँगे!

आशा और राम: Chicken finger?!

माइक: चिंता मत करो। हम हमेशा एक दूसरे से सीखेंगे, और ज़्यादा अच्छे दोस्त होंगे!

शारलीन के लिए

शारलीन: नमस्ते रेखा। आज ससांदों ने इस के बारे में बहस की: कैसे बडजिट के कचे हुए पैसे खर्च किये जाएँ। मुख्य तोर से लोक-प्रिया पर्टी के सदस्यों ने कहा कि इतना भारतिया, एशन, और दुनिया का धन हमारी तेलपोरतैश्न परिवहन संस्थित पर निबर्व करता है, कि हमको निश्चय ही कुछ और पैसे इनके सुधार के लिए लगाना चाहिए। डेमक्रैटिक पार्टी के संदस्यों बहस की कि अगर और पैसे तेलपोरतैश्न में लगाया जायेंगे, तो हम दूसरे देशों की मदद नहीं कर पयेंगे। अभी लगता है कि तेलपोरतैश्न परिवहन सांस्थित के विस्तार करने में एक सौ करोर रुपाये लगेंगे। लेकिन हम काल के मतदान के पहले ज़रुर नहीं जान सकता है। रेखा?

पीटर के लिए

पीटर: कल्पना कीजिए। आज से पचस साल हो गये हैं, और आप लोग आधूनिक खाने की गोली खाते हुए समाचार शो आपकी दीवार पर देख रहे हैं।

शुक्रवार, जुलाई 29, 2005

Why doesn't my wireless card work?

अपनी दोस्त के परिवार से मिलते हुए मुझसे कोई गलती हो गयी थी। उस ने मुझे कहा कि मुझे पाँच बजे आना चाहिये। गड़ी से मेरे घर से उस का घर तक तकरीबन पच्चास मिनट है तो सारे चार बजे को मैं तैयार था। लेकिन दरअसल कितनी दुर नहीं था और मैं ने उस का घर पोने पाँच बजे पहुचा। पाँच मिनट के लिये मैं ने गड़ी में पाँच बजे का इनतज़ार किया लेकिन इनतज़ार से ऊब गया तो मैं गड़ी निकल जाकर दरवाज़ा की घंती बजा दिया। लेकिन उस के परिवारवाले मेरे लिये बिलकुल तैयार नहीं थे। उस की माँ का खाना पका नहीं गया, उससे और उस की बहन से हिजाब नहीं पहन गये, आदि। कुछ समय के बाद उस ने मुझे बताया कि उस के परिवारवाले के लिये पाँच बजे यानी करीब सारे पाँच या छ: बजे। उस का घर इन्दिन स्तंडर्ड टइम में चल रहा है।

पिंजर की कहानी बहुत जटिल है। वह विभाजन के बारे में है लेकिन वह भी औरतों के समस्ये के बारे में है। शुरु में, रशीद के द्वारा पुरो का अपहरण कर जाती है। रशीद उस को अपने गाँव को लेता है जहां पुरो रशीद की बीवी बनती है। लेकिन क्या करे? इज़्ज़त लूटती हुई औरत, इस समाज में, अपने परिवार को वापस नहीं पाती थीं। रशीद कितना अच्छा आदमी है लेकिन ज़िन्दगी भी पुरो के लिये आसान नहीं है। पहले उस को गर्भपात होता है और फिर उस का गोद लिया हुआ बेटा उस से ज़बरदस्ती छीन ली जाती है। यह तो इस की फ़िल्म का संदेश है मेरी राय में। उस ज़माने में, उस समाज में औरतों की ज़िन्दगी बहुत मुशकिल, बहुत अयोग्य थी खासकर विभाजन के दौरन। यह फ़िल्म हमें धर्म और समाज के बारे में सोचवाती है। इस तरह में बहुत महटव्पूर्ण फ़िल्म है।

सोचते सोचते मुझे कुछ नहीं अर्थ के अनार्थ के बारे में आ रहा है। तो शायिद मैं अराबिक और उस की रिशता हिन्दी के साथ के बारे में लिखूं क्योंकि हिन्दी सीखते हुए मुझसे कुछ ग़लतफ़मी हो गये। हिन्दी में बहुत अराबिकवाले शब्द हैं लेकिन कई शब्द बदला गये। मसलन: मसलन। उस का मतलब दोनों भाषनों में "for example" है लेकिन फ़ोनालोजी की वजह से "th" "स" बन गया। बहुत शब्दों में अराबिक से मुशकिल अवाज़ था। इस उर्दू के शब्द देखिये: बाज़। यह शब्द अराबिक से है लेकिन मात्र भाषन में बहुत फ़र्क़ है। अगर मैं अराबिक बोलूं और मैं इस शब्द का इस्तेमाल करूं तो मैं "बाआड" के जैसे बोलूं।
इसलिये मैं सोचता हूँ कि जब मैं ने हिन्दी सीखने शुरू किया मैं बहुत हिन्दी के शब्द जानता था लेकिन मुझे नहीं मालूम (एक और अराबिक शब्द...) था। इसलिये, मुझे बहुत संभ्रान्ति था। कुछ और मुख़तलिफ़ शब्द:
फ़र्ज़ (~फ़र्ड), दावत (~दआवा), वग़ैरह (~वा ग़ाइरु हु), इंतज़ाम (~इंतिthाम), लज़ीज़ (~ladhidh), आदि।
(th = as in this, that; further back in the mouth for "intitham")
(dh = dental fricative)
मेरी राय में यह थोड़ी सी परेशानी है लेकिन मैं भी जानता हूँ कि ज़बान इतनी दिलचस्प हैं इस की वजह से।

गुरुवार, जुलाई 21, 2005

Scripts--Hindi with English Translation

Scene # 1
रबर
‘Rubber’


रीसः माफ करना, तुम्हारे पास रबर है क्या?
Reece: Sorry, do you have a rubber?

रेबेकाः क्या, यह क्या बदतमीज़ी है । तुम्हारे घर में मां-बहन नहीं है क्या।
सर, देखिये, यह लड़का मेरे साथ छेड़खानी कर रहा है ।
Rebecca: What kind of bad behavior is this? Do you not have a sister and mother at home?
Sir, look, this boy is eve-teasing me!

रिचर्डः यह क्या कर रहा था?
Richard: What was he doing?

रेबेकाः यह मुझसे रबर के लिए पूछ रहा था ।
Rebecca: He was asking me for a rubber!

रीसः सर, यह लड़की तो पागल लगती है । मैं तो इससे सिर्फ eraser मांग रहा था, बस ।
Reece: Sir, this girl seems to be crazy. I was just asking for an eraser from her, that’s all.

रिचर्डः अच्छा, अच्छा, अब समझा । बेटी, तुम्हें थोड़ी सी गलतफहमी हो गई थी ।
Richard: Okay, okay, now I understand. Daughter, you have made a small mistake.

रेबेका: यह रबर ले लो।
Rebecca: Take the rubber.

रीस: ???!!!??? (Hint: निरोध=condom)
Reece: ??!!??

रेबेका: सर, सर.....!
Rebecca: Sir, sir….!
_____________________________________________________________________________________
Scene # 2
‘A homely girl’
रेस्ट्रां में-In a restaurant

ग्वेनः आओ अशोक, आओ । बैठो ।
Gwen: Come here Ashok, come here! Sit down.

जेरेमीः कल तुम कहां थी, कहीं दिखी नहीं ।
Jeremy: Yesterday where were you? You didn’t show up anywhere.

गः कल मैंने अपना अपार्टमेंट साफ किया, फिर हफ्ते भर का खाना-वाना बना लिया और सारे कपड़े-वपड़े भी धो लिए ।
Gwen: Yesterday I cleaned my apartment, cooked food for next week, and also washed all my clothes.

जेः वाह, क्या बात है । तुम कितनी homely लड़की हो । तुम्हारा होनेवाला पति कितना
भाग्यवान होगा । मुझे तो उससे ईर्ष्या हो रही है भई ।
Jeremy: Wow, that’s great! What a homely girl you are! How lucky your future husband will be. I’m
already getting jealous of him.

गः क्या कहा तुमने । तुमने मुझे homely कहा । मैं नहीं जानती थी कि तुम दिल के इतने बुरे हो।
Gwen: You said what? You called me homely! I didn’t know that such bad thoughts were in your heart!

जेः तुम नाराज़ क्यों हो रही हो । तुम तो सचमुच बहुत homely हो, बिल्कुल मेरी भाभी की तरह ।
Jeremy: Why are you getting angry? You really are very homely, just like my sister-in-law.

गः तो तुम्हारी भाभी भी homely हैं!
Gwen: So your sister-in-law is homely now too!

जेः हां, बिल्कुल तुम्हारी तरह । वे घर के सारे काम बहुत अच्छी तरह से करती हैं ।
Jeremy: Yes, she’s just like you. She does all the housework so well.

गः अच्छा, तो अब मैं समझी तुम्हारे homely का असली मतलब । देखो, अमेरिका में आइंदा किसी लड़की को homely मत कहना, नहीं तो मारे जाओगे। हां, सच्ची ।
Gwen: Okay, now I understand your homely’s real meaning. Look, in the future, don’t ever call a girl in America homely if you don’t want to be killed. Yes, really.
_____________________________________________________________________________________
Scene # 3
‘What’s up Dog?’

माइकः क्या हालचाल है, Dog ?
Mike: How’s it going, dog?

पीटरः क्या, साले तूने मुझे कुत्ता कहा। मैं तुझे आज जिन्दा नहीं छोड़ूंगा।
Peter: What, you jerk, you called me a dog! I’m going to end your life today.

शारलीनः तुम लोग आपस में लड़ो मत । पीटर, हर बात का किताबी मतलब मत लिया करो न । कैम्पस की भाषा में यार-दोस्त को भी प्यार से Dog कहा जाता है ।
Sharleen: Stop arguing between yourselves, you two. Peter, stop taking every word’s meaning so literally. In campus slang, friends call each other dog out of love.

पीः फिर तो मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई । माइक, मुझे माफ कर दो । मुझे मालूम नहीं था ।
Peter: I made another very big mistake. Mike, please give me your forgiveness. I didn’t know.

माः कोई बात नहीं मेरे Dog! मैं तो तुझसे खफ़ा कभी हो ही नहीं सकता । यह बात हमेशा याद रखना। रखोगे न याद, Dog!
Mike: No big deal, dog! I could never get angry with you. But remember this thing forever. Don’t ever forget, dog!


­­­­­_____________________________________________________________________________________
Scene 4
नाम???
NAME??

रेबेका: अम्मी, यह मेरा दोस्त पीटर है। मेरे साथ पढ़ता है।
Rebecca: Mom, this is my friend Peter. He goes to school with me.

पीटर: नमस्ते माता जी!
Namaste, mata-ji!

रिचर्ड: नमस्ते माताजी?!? सुना तमने? यह विदेशी लड़का तुम्हे “नमस्ते” और “माताजी” कह रहा है!
Namaste mata-ji?!? Did you hear? This foreign boy is saying namaste and mata-ji to you!

रेबेका: अरे बेवकूफ, मैंने तुम्हें कितनी दफे समझाया था, अस्सलामवालेकुम या आदाब कहने के लिए! और क्या मेरी अम्मी को अम्मी कहने में तुम्हारी जीभ को तकलीफ होती है? मेरी ‘अम्मी’ तुम्हें ‘माताजी’ दिखती है?
Hey, stupid, how many times have I told you already to say Assalaamu alaikum or adab! And doesn’t saying “mataji” to my mother give your tongue trouble? Does my ‘ammi’ look like a ‘mataji’ to you?

शारलीन: अरे बेटी, क्यों तुम अपने दोस्त पर इतना बिगड़ रही हो? कितना मासूम(??? Hard to read) है पीटर!
Now daughter, why are you hurting your friend so much? How innocent Peter is!

पीटर: माफ कीजिए अम्मी और अब्बा जान। मेरे कई हिन्दू दोस्त हैं और इसलिए मुझे ‘नमस्ते’ और ‘माताजी’ को आदत सी हो गई है।
Sorry mother and father. I have several Hindu friends and therefore I got in the habit of saying namaste and mataji.

शारतीन: पर पीटर वेटे क्या तुम अपने हिन्दू दोस्तों को माँओं को माताजी कहते हो?
But Peter, son, do you say ‘mata-ji’ to your Hindu friend’s mothers?

रिचर्ड: तुमने हिनदी कहाँ सीखी, पीटर?
Where did you study Hindi, Peter?

पीटर: जी पिताजी, मेरा मतलब, अब्बा जान, मैंने UW-Madison में हिन्दी सीखी। मेरे हिन्दी के शिक्षक मिथिलेश जी ने मुझे बताया तो था, पर क्या करू, याद नहीं रहा।
Yes Pita-ji, I mean Abba-jan, I student Hindi at UW-Madison. My teacher, Mithilesh-ji, told me all this, but what happened, it didn’t stick.

शारलीन: अराम से बेटा। कुछ चाई पियो।
Relax son. Drink some tea.

पीटर: उम, चाई बहुत गलीज़ है।
Yum, this tea is really dirty.

रेबेका: मेरी माँ के हाथ के चाई गलीज़ नहीं है, वह लज़ीज़ है। याद करो!My mother’s special tea is not dirty, its delicious. Remember!

रिचर्ड: पीटर, तुमहारा मनपसंद विषय क्या है?
What is your favorite subject?

पीटर: मेरी मनपसंद वेश्या हिन्दू है।
My favorite prostitute is Hindu.

रिचर्ड: कैसे-कैसे दोस्त है तुमहारा, बेटी?!?
What kind of friend is this, daughter?!?

शारलीन: काई बात नहीँ बेटा। हमेशा कोशिश करते रहो।
Don’t worry about it son. Keep on trying always.

पीटर: धन्यवाद माताजी।
Thanks, ‘mata-ji.’

रिचर्ड और रेबेका: हाय अल्लाह!
Dear God!

बुधवार, जुलाई 20, 2005

3 scripts

SCRIPT # 1

‘Rubber’

SIGN: QUIET PLEASE ! TOEFL TEST IN PROGRESS

रीसः माफ करना, तुम्हारे पास रबर है क्या
[Poster: ERASER !]

रेबेकाः क्या, यह क्या बदतमीज़ी है । तुम्हारे घर में मां-बहन नहीं है क्या।

सर, देखिये, यह लड़का मेरे साथ छेड़खानी कर रहा है ।

रिचर्डः यह क्या कर रहा था

रेबेकाः यह मुझसे रबर के लिए पूछ रहा था ।

रीसः सर, यह लड़की तो पागल लगती है । मैं तो इससे सिर्फ eraser मांग रहा था, बस ।

रिचर्डः अच्छा, अच्छा, अब समझा । बेटी, तुम्हें थोड़ी सी गलतफहमी हो गई थी ।


SCRIPT # 2

‘A homely girl’

रेस्ट्रां में



ग्वेनः आओ अशोक, आओ । बैठो ।

जेरेमीः कल तुम कहां थी, कहीं दिखी नहीं ।

गः कल मैंने अपना अपार्टमेंट साफ किया, फिर हफ्ते भर का खाना-वाना बना लिया और सारे कपड़े-वपड़े भी धो लिए ।

जेः वाह, क्या बात है । तुम कितनी homely लड़की हो । तुम्हारा होनेवाला पति कितना
भाग्यवान होगा । मुझे तो उससे ईर्ष्या हो रही है भई ।

गः क्या कहा तुमने । तुमने मुझे homely कहा । मैं नहीं जानती थी कि तुम दिल के इतने बुरे हो ।

जेः तुम नाराज़ क्यों हो रही हो । तुम तो सचमुच बहुत homely हो, बिल्कुल मेरी भाभी की तरह ।

गः तो तुम्हारी भाभी भी homely हैं

जेः हां, बिल्कुल तुम्हारी तरह । वे घर के सारे काम बहुत अच्छी तरह से करती हैं ।

गः अच्छा, तो अब मैं समझी तुम्हारे homely का असली मतलब । देखो, अमेरिका में आइंदा किसी लड़की को homely मत कहना, नहीं तो मारे जाओगे। हां, सच्ची ।

SCRIPT # 3

‘What’s up Dog?’

माइकः क्या हालचाल है, Dog ?

पीटरः क्या, साले तूने मुझे कुत्ता कहा। मैं तुझे आज जिन्दा नहीं छोड़ूंगा।

शारलीनः तुम लोग आपस में लड़ो मत । पीटर, हर बात का किताबी मतलब मत लिया करो न । कैम्पस की भाषा में यार-दोस्त को भी प्यार से Dog कहा जाता है ।

पीः फिर तो मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गई । माइक, मुझे माफ कर दो । मुझे मालूम नहीं था ।

माः कोई बात नहीं मेरे Dog! मैं तो तुझसे खफ़ा कभी हो ही नहीं सकता । यह बात हमेशा याद रखना। रखोगे न याद, Dog!

शुक्रवार, जुलाई 15, 2005

कुमार परिवार

मुझे कुमार परिवार बहुत अच्छी नहीं लगता हूँ। बाप को सबसे महटव्पूर्ण बात पैसे है इसलिये वह झूठ बोलता है, वह अपने बच्चों को नज़रअंदाज़ करता है, वग़ैरह वग़ैरह। माँ भी मुझे परेशान करती है। उस की ताक-झांक करने की आदत है इसलिये उस से बोलने हुए मैं कुछ महटव्पूर्ण अख़बार बाता सकता हूँ। वह बिलकुल गप्पी है। फिर उन के बच्चें बिगड़े हैं। रोहित शराबी है - शराब पीते हुए वह बहुत कमबख्त है। अमीशा इतना खुबसूरत लगती है लेकिन दरअसल वह पागल हो गयी अपनी परिवार की वजह से। अब वह घर में शायरी लिखती है। मुझे शायरी नफ़रत है - खैर, मैं शायिर तो नहीं। आखिर में छोटा राज सोचता है कि वह राजा बनेगा तो वह रोज़ ताज पहनता है और अगर मैं उस से बुलाता हूँ "योर हइनिस" बोलने के बिना तो वह मुझे नहीं जवाब देगे। मैं इस परिवार से ऊब गया।

गुरुवार, जुलाई 14, 2005

फ़िल्म - बाग़बान

बाग़बान की कहानी पति-पत्नी के बारे में शुरु होती है। वे दोनों अपने साथ बहुत खुश लगते हैं और हार दिन वे अपने प्यार मनाते हैं। ४० साल शादी के बाद पति (राज) तय करता है कि वह काम करने खतम करेगा। अकेले लगते हुए राज-पूजा चाहते हैं कि वे अपने बच्चों के साथ रह सकते हैं। राज उन से यह खबर बताकर उन को फ़ैसल छोर देता है। बच्चे सोचते हैं कि अगर वे राज-पूजा अलग करे तो उस के फैसला मनज़ूर नहीं हो। लेकिन है, और छ: महीने के लिये राज दिल्ली में रहता है और पूजा ममबाय में रहती है। खोजते हुए कि अपने बच्चों के उन को कोई इज़्ज़त नहीं है बहुत ग़म लगते हैं। इस ग़म के बारे में कहानी में राज से लिखा हुअ है। यह किताब, "बाग़बान", बहुत मशहुर बनकर राज-पूजा आमीर लोग बनते हैं। गस्से से राज "जेनैरेशन गाप" के बारे में समझाता है। वह अपने बेटे नहीं माफ़ करेगा।

मेरी राय में यह फिल्म बहुत ज़्यादा सीधी है। फिर मुझे अभिनय अच्छा नहीं लगा। लेकिन मेरा मनपसंद अभिनेता परेश रवल था - बहुत मज़ेदार था।